आगरा फोर्ट ट्रेन की चपेट में आकर एक हाथी के बच्चे (कलभ) और नर हाथी की हुई मौत

उत्तराखंड में रुद्रपुर के पास पीपल पड़ाव रेंज में सिडकुल हॉल्ट से करीब पांच किमी. दूर बुधवार सुबह आगरा फोर्ट ट्रेन की चपेट में आकर एक हाथी के बच्चे (कलभ) और नर हाथी की मौत हो गयी।
ट्रेन के हाथियों के टकराने के बाद आगरा फोर्ट को वहीं रोकना पड़ा। सूचना पर आनन-फानन में वन विभाग और आरपीएफ की टीमें मौके पर पहुंची लेकिन तब तक इन हाथियों के साथ के झुंड ने रेलवे ट्रैक पर डेरा डाल दिया।

हाथियों के रेलवे ट्रैक पर डेरा डाल देने के बाद यात्रियों की सुरक्षा को देखते हुए आगरा फोर्ट को सिडकुल हॉल्ट भेज दिया गया। वहीं इसी ट्रेक से गुजरने वाली काशीपुर से कासगंज जाने वाली ट्रेन को भी गूलरभोज स्टेशन से वापस भेज दिया गया। सुबह करीब साढ़े पांच बजे हुई इस घटना के बाद करीब दोपहर 11 बजे तक हाथियों का झुंड रेलवे ट्रैक को घेरा हुए था। वन विभाग की दो टीमें हाथियों पर नजर रखे रही। करीब साढ़े पांच घंटे बाद हाथियों के झुंड ने ट्रैक को खाली किया। इसके बाद करीब 12 बजकर 20 मिनट में आगरा फोर्ट को रामनगर के लिए रवाना किया गया।

जानकारी के मुताबिक, बुधवार सुबह 5:30 बजे आगरा फोर्ट ट्रेन संख्या 05055 आगरा फोर्ट से रामनगर जा रही थी। इसी दौरान टांडा रेंज में सिडकुल हॉल्ट से करीब पांच किलोमीटर आगे एक हाथी का बच्चा और नर हाथी ट्रेन की चपेट में आ गए। ट्रेन की टक्कर से दोनों हाथियों की मौके पर ही मौत हो गई। आनन-फानन में वन विभाग के उच्चाधिकारियों समेत पीपल पड़ाव रेंज के आरओ हरीश पांडे और टांडा रेंज के रेंजर अजय लिंगवान दो टीमों के साथ मौके पर पहुंचे। हाथियों के शवों को ट्रैक से हटाया गया लेकिन इसी बीच हाथियों का झुंड वहां पहुंच गया और ट्रैक पर हाथियों के शवों के इर्द-गिर्द डेरा डाल दिया। इस पर वन विभाग की टीम ने ट्रेक से दूरी बताते हुए उनके जाने का इंतजार किया।

करीब साढ़े पांच घंटे के बाद हाथियों का झुंड वहां से हटा। वहीं आगरा फोर्ट को वापस सिडकुल हॉल्ट भेजा गया। ऐसे में कई यात्री यहां रुकी बसों में रवाना होकर अपने गंतव्य को रवाना हुआ। हाथियों के ट्रैक खाली करने के बाद आगरा फोर्ट को 12 बजकर 20 मिनट में बिना यात्रियों के रामनगर रवाना किया गया। वहीं ट्रैक पर हुए हादसे के बाद काशीपुर से कासगंज जाने वाली ट्रेन को गूलरभोज से वापस काशीपुर भेज दिया गया था। जबकि काशीपुर जा रही बरेली काशीपुर इंटरसिटी को लालकुआं मे रोक दिया गया।

सिडकुल हॉल्ट से करीब पांच किमी. दूरी पर आगरा फोर्ट से टकराकर दो हाथियों की मौत हो गयी। इसके बाद करीब साढ़े घंटे तक हाथियों के झुंड ने ट्रैक पर डेरा डाल दिया था। यात्रियों की सुरक्षा को देखते हुए आगरा फोर्ट को सिडकुल हॉल्ट वापस भेजकर इसके यात्रियों को बसों से भेजा गया। रेलवे ट्रैक से हाथियों के हटने के बाद 12 बजकर 20 मिनट में सिडकुल हॉल्ट से आगरा फोर्ट को रामनगर के लिए रवाना किया गया। हादसे में मारे गए दोनों हाथियों का पोस्टमार्टम किया जा रहा है। – अजय लिंगवान, रेंजर, टांडा रेंज

ब्यूरो रिपोर्ट

Leave a Reply

Your email address will not be published.